glacier-torn-in-uttarakhand-flooded-dhauli-river-crisis-from-chamoli-to-haridwar-escalates-high-alert
glacier-torn-in-uttarakhand-flooded-dhauli-river-crisis-from-chamoli-to-haridwar-escalates-high-alert

उत्तराखंड: उत्तराखंड Uttarakhand के चमोली chamoli जिले में रविवार को ग्लेशियर टूट Glacier-torn गया। इसके बाद धौलीगंगा नदी में जल स्तर अचानक बढ़ गया। उत्तराखंड के मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने बताया कि आपदा में 100 से 150 लोगों के मारे जाने की आशंका है। चमोली के तपोवन इलाके में स्थित एनटीपीसी के प्लांट से 3 शव मिले हैं। यहीं ऋषिगंगा पावर प्रोजेक्ट को काफी नुकसान पहुंचा है। यहां काम करने वाले कई मजदूर लापता हैं। नदी के किनारे बसे कई घर पानी में बह गए हैं। आसपास के गांवों को खाली कराया जा रहा है। ऋषिगंगा के अलावा एनटीपीसी के भी एक प्रोजेक्ट को नुकसान पहुंचा है। तपोवन बैराज, श्रीनगर डैम और ऋषिकेश डैम भी क्षतिग्रस्त हुए हैं।

उत्तराखंड में आपदा के अपडेट्स

  • ITBP, SDRF और NDRF कई टीमें घटना स्थल पर पहुंच चुकी हैं। रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वो लगातार उत्तराखंड के हालात पर नजर रखे हुए हैं। साथ ही NDRF के आला अधिकारियों से भी बात कर रहे हैं।
  • NDRF की कुछ टीमें देहरादून से जोशीमठ भेजी गई हैं। दिल्ली से एयरलिफ्ट करके कुछ टीमें देहरादून भेजी जाएंगी।
  • उत्तराखंड पुलिस के मुताबिक, श्री नगर, ऋषिकेश और हरिद्वार में पानी का स्तर खतरे के निशान से ऊपर जा सकता है।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से फोन पर बात की।

ग्लेशियर फटने के बाद धौलीगंगा का जल स्तर इस तरह बढ़ा। किनारे के कई घर पानी में बह गए।

  • मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बताया कि नंदप्रयाग से आगे अलकनंदा नदी का बहाव सामान्य हो गया है। उन्होंने जनता से अफवाहों पर ध्यान नहीं देने की अपील की है। वो खुद चमोली रवाना हो चुके हैं।
  • उत्तर प्रदेश में भी हाई अलर्ट। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गंगा किनारे बसे सभी जिलों में नदी के जलस्तर पर नजर बनाए रखने के निर्देश दिए।
  • ऋषिगंगा पावर प्रोजेक्ट को भी इस आपदा में काफी नुकसान पहुंचा है।
  • सरकार ने हेल्पलाइन नंबर 1905, 1070 और 9557444486 जारी किए हैं। सरकार ने अपील की है कि इस घटना के बारे में पुराने वीडियो सर्कुलेट कर अफवाह न फैलाएं।
  • हरिद्वार में कुंभ मेला चल रहा है। इसलिए राज्य सरकार ने यहां भी हाई अलर्ट जारी कर दिया है।
  • ITBP के 200 से ज्यादा जवान, SDRF की 10 और NDRF की टीमें रेस्क्यू काम में जुटी हुई हैं। कुछ और टीमें एयरफोर्स के हेलिकॉप्टर से पहुंच रही हैं। 

जून 2013 में आई आपदा में 4 हजार से ज्यादा की जान गई थी
16-17 जून 2013 को बादल फटने से रुद्रप्रयाग, चमोली, उत्तरकाशी, बागेश्वर, अल्मोड़ा, पिथौरागढ़ जिलों में भारी तबाही मची थी। इस आपदा में 4,400 से अधिक लोग मारे गए या लापता हो गए। 4,200 से ज्यादा गांवों का संपर्क टूट गया।

इनमें 991 स्थानीय लोग अलग-अलग जगह पर मारे गए। 11,091 से ज्यादा मवेशी बाढ़ में बह गए या मलबे में दबकर मर गए। ग्रामीणों की 1,309 हेक्टेयर भूमि बाढ़ में बह गई। 2,141 भवनों का नामों-निशान मिट गया। 100 से ज्यादा बड़े व छोटे होटल ध्वस्त हो गए। आपदा में नौ नेशनल हाई-वे, 35 स्टेट हाई-वे और 2385 सड़कें 86 मोटर पुल, 172 बड़े और छोटे पुल बह गए या क्षतिग्रस्त हो गए थे।

पोलिस की तरफसे हेल्पलाईन जारी

व्हॉट्सअॅप नंबर 9458322120,
FaceBook chamoli police,
Twitter @chamolipolice @SP_chamoli,
Instagram chamoli_police

हेही वाचा:

पेट्रोल-डिझेलचा भडका: केंद्र सरकारची चलाखी…;रोहित पवारांचा भाजपवर हल्लाबोल

Gehana vasisth l अश्लील व्हिडीओ प्रकरणी अभिनेत्री गहना वशिष्ठला अटक

Uttarakhand Joshimath Dam: उत्तराखंडमध्ये हिमकडा कोसळला, महापुरामुळे अनेक लोक वाहून गेले

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here